roses

roses

Thursday, 16 April 2015

तुम तक

तुम तक ही तो थी मैं ..
बांकी सब तो स्वार्थ था
इसलिये हृदयहीन हूँ सबों के लिये
सिवाय तुम्हारे ……


सच के टुकड़े हुए, तुम चली गयी
अब ! पॉव तले मिट्टी ना रही
सो कंकड़ चुभते है कही भीतर ..

खड़ी हूँ।.,क्यूंकि।..
सच्चाई सामने आई नहीं
ओर मौत झूट होती नहीं।.

टुकुर टुकुर देखती हूँ स्याह काली रात को
लोग कहते हैं तुमने दुनियाँ बदल ली है !

Wednesday, 11 September 2013

अनकही…

                                                                                           शब्दों की धूप                                                                                                      ज़डो से जुड़ी मैं                                                 अर्थहीन संवाद….
                                                                                                 देहरी पर खड़ी मैं                                                                                                             उम्मीदों का अथाह सागर                                  संकरी गली….                                                                                                           तेज़ बरसात                                                                                                                                                                                             भीगती मैं                                                                                                                                सूखी ज़मीन… 

                                                                            बदलाहट की आहट                                                                                                                नया घरोंदा  
                                                                                   पुरानी मैं..
                                                                                                   चलो तलाशते हैं                                                                                                         रूठी तक़दीर को                                                                                                                       भाग्यहीन…

                                                                                                                      कौन भगा है?                                                                                                                 अपने आप से                                                                                                                                                                                                                                                                            हृदयहीन…
                                                             क्या कहूँ                                                                                                                          शब्द यूं बेवज़ह                                                                                                                           बोलते नहीं… 

Friday, 8 June 2012

मैं सामाजिक हूँ

                                                                       मैं  सामाजिक हूँ


    मुझे ख़ुशी है मैं बोहुत से लोंगों को नहीं जानती ...............

   जो मुझे नहीं जानते उनके लिए मैं सामाजिक हूँ...........

   और जो जानते हैं उनके लिए सामाजिक होने का बस ढोंग करती हूँ !!



   लोग कहते हैं मेरे अंदर बोहुत संवेदनाएं हैं ,परन्तु जब भी

   व्याभारिकता की बात हुई   संवेदनाओं का रुख बदल गया

   तो संवेदनशील तो नहीं हुई ना ............


   बोहुतों ने कहा मैं सोच में परे हूँ

   रूढ़ियाँ  परंपराएं एवम सामाजिक सरोकार  में

   मैंने भी अपनी सहमति  लगाई तो सोच से परे कैसे ........


   सबने कहा मैं अलग  हूँ

   मेरे यह कहनेभर से की मेरे विचार आप से सहमत नहीं

   तो मैं अलग तो नहीं ना, महज सोच भर से दुनिया नहीं बदली जाती ...

   मगर सोच से बदलाव के विचार तो आते हैं ना .................


   किसी ने कहा पन्नों को रंगना छोड़ दो

   कैसे कहूँ शब्दों से मैं रंगी जा रही हूँ

   बोहुतों ने पूछा प्रेम के   विषय में क्या विचार है ?

   मैंने कहा मै एक सामाजिक प्राणी हूँ, और समाज के नियमों का पालन करती हूँ ....

 
    आस्था पर मेरे विचार जानने वाले भी बोहुत हैं

    आस्था मेरे भीतर का भय और वास्त्विकता मात्र इतनी है

     की मैं बोहुत भयवीत  होती हूँ अपने तरह के सामाजिक प्राणी से .........

   
    लोगों ने कहा मैं शब्दहीन हूँ

    वास्तविकता  ये है की मेरे  हैं शब्द  अर्थहीन हैं

    इस समाज के लिए  अथ मैं शब्दहीन हूँ..........



Saturday, 3 December 2011

आक्रोश


       हाँ ..
              आज तो बरसेगी ही
             मन सुखकर चट्टान और विरान जो हो गया 

       गुबार और घुटन के बादल से 
        आसमान सघन  है  तो बारिश तो होगी ही 
         बूंदें बरसेगी ही ..

      इतना बरसो ..
      मन की मिटटी दलदल हो जाए
       तुम्हारी तीखी धुप भी इसे सुखो न पाय  

परन्तु भय है 
मिटटी, दलदल, बारिश 
और धुप पाकर आक्रोश के बिज पनप न जाए

Sunday, 7 August 2011

कुछ बदला सा !!


दरकती रही ज़िन्दगी जुड़ने की चाहत में
उगते रहे ये पंख बस   उड़ने  की चाहत में !
पलकें जब भी उठाई अपने ही चेहरे से घबराई
दौडती रही रौशनी में बस अंधेरों से टकराई !
मुस्कुराते कई शब्द ! ख़ामोशी में बदल रहे
भावनाओं के किरदार एकाकीपन में उलझ रहे
मै बैठी रह जाती हूँ, विचार आगे बढ़ जाते हैं
मै कुछ  न कह पाती हूँ , मौन सब कह जाते हैं
उथल पुथल हुई है कहीं भीतर, कुछ गहरे में
इस शांत समंदर में, शायेद कुछ बदला सा है!!

Tuesday, 21 June 2011

मौन!!


 तुम्हारी चीख ,द्वन्द, कोलाहल
मेरी चीख ,द्वन्द ,कोलाहल
बैठे हम पास मौन !!!!
बँटवारा कमरों का
बँटवारा दिलों का
आँगन का बूढ़ा पेड़ मौन !!
प्रयत्न मेरा
प्रयत्न तुम्हारा
बंद दिल के दरवाजे मौन!!
 हँसते ठहाके
फैलता व्यापार
दरवाजे पर पड़ी चप्पलें मौन !!! 
 बढते रिश्तें
 पनपती कोपलें
 सिकुड़ता जड़ मौन!!
  तुम्हारा साथ ,उसका साथ
  सबका साथ
  मै अकेली मौन !!!
  जाती पूरी
   धर्म पूरा
                                                                                                                          अधूरी इंसानियत मौन !!

तुम जान पाती !!


यह अविव्यक्ति एक लड़की पर लिखा है जिन्होंने आज के  दिन पिछले साल आत्महत्या कर ली थी और बोहुत मर्माहत वाली घटना थी
कभी कभी अभिभावक अपने बच्चो को समझ नही पाते हैं और पूरी ज़िन्दगी पछताते हैं !! चाहे कारण कितना भी गंभीर हो ज़िन्दगी से बढकर कुछ भी नही !!
                                                                तुम जान पाती !!
                                                    मुस्कुराते हुए चेहरे के पीछे छिपे
                                                    अन्धकार की सीमा तुम जान पाती!!
 
                                                   तुमलोगों की बातों में मेरे व्यतित्व
                                                   के विश्लेषण का दर्द जान पाती    !!
 
                                                   मेरी टहनियां कहीं भी विकसित हो
                                                   परन्तु जो जड़ तुमसे जुड़ा है उसके
                                                  बंज़र हो जाने का दर्द तुम जान पाती!!
 
                                                  मै तो रीत रिवाज़ रूढ़ियाँ  मान भी लूँ
                                                  पर आत्मा ये दकियानूसी विचार नही मानते  
                                                  उस आत्मा का दर्द तुम जान पाती          !!
 
                                                  हारना मै चाहती नही पर जहाँ जीत का
                                                  प्रावधान न हो वहां दौड़ का दर्द
                                                  तुम जान पाती ……………………!!
 
                                                 पल में हज़ार शब्दों का व्यापार करने वाली मै
                                                 तुम्हारे लाख शब्दों पर मेरी एक चुप्पी
                                                 का दर्द तुम जान पाती………………….!!
 
                                                 तुम्हारे शब्दों का संबल ही मेरी जड़ों को
                                                 सिंचित कर देते मेरे अन्धकार अपनी सीमा
                                                 ढूंढ़ लेते पर शब्दों का संबल भी
                                                 न पाने का दर्द तुम जान पाती ………..!!